25 अक्टूबर से तीन दिन की हड़ताल  का ऐलान

उत्तर प्रदेश मैं पुरानी पेंशन बहाली को लेकर ‘पुरानी पेंशन बहाली मंच’ के पदाधिकारियों ने 25 अक्तूबर से तीन दिन की हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है। पुरानी पेंशन बहाली मंच ने कहा की बिना मुख्यमंत्री से बात किए इस मामले का कोई हल नहीं निकाल सकता। मुख्यमंत्री से बात होने की दशा में लिए गए निर्णय की सूचना जिला इकाइयों को अधिकृत तौर पर दी जाएगी। आज उत्तरप्रदेश की 120 तहसीलों में पुरानी पेंशन बहाली को लेकर कार्यक्रम किए गए।

नयी पेंशन योजना व पुरानी पेंशन योजना में अन्तर

उत्तराखण्ड के हजाराें युवा इस शख्सियत की बदैालत कर रहे हैं देश सेवा |

नयी पेंशन योजना की हकीकत।।10 साल की सेवा के बाद पेंशन सिर्फ 946 रू0

वहीं जिलाधिकारियों की तरफ से

                     नई पेंशन नीति को अधिक लाभकारी बताया जा रहा है। पर,मंच के सवालों का जवाब नहीं दे पा रहे हैं। कुछ जगह तो डीएम एवं कर्मचारी नेताओं मे तकरार भी हुई। हरिकिशोर तिवारी ने मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप की मांग की है। कहा कि मुख्यमंत्री को अधिकारियों पर सब कुछ न छोड़कर खुद भी मुख्यमंत्री जी को कर्मचारियों, शिक्षकों और अधिकारियों से संवाद करना चाहिए। यदि हड़ताल तोड़ने के लिए उत्पीड़न का रास्ता अपनाया गया तो यह हड़ताल अनिश्चितकालीन में बदल जाएगी। पशु चिकित्सा अधिकारी संघ, ऑल इंडिया टीचर्स एसोसिएशन अरबी-मदारिस, उत्तर प्रदेश शिक्षेणेत्तर कर्मचारी संघ ने समर्थन का एलान किया है। उत्तर प्रदेशीय चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष रामराज दुबे ने भी समर्थन एलान किया है। महासंघ के महामंत्री रामनरेश यादव ने कहा मांग पूरी नहीं होने तक कोई भी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सरकारी काम नहीं करेगा। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संघ स्वास्थ्य विभाग के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र पांडेय ने उत्पीड़न होने पर आवश्यक सेवाएं भी ठप करने की चेतावनी दी है।
आम तौर पर बाहर के सेवा संगठनों के आंदोलन को नैतिक समर्थन देने वाले सचिवालय के सभी सेवा संगठनों ने पूर्ण तालाबंदी कर हड़ताल में शामिल होने का एलान किया है। यह निर्णय सचिवालय संघ के अध्यक्ष यादवेंद्र मिश्र की अध्यक्षता में बापू भवन सचिवालय सभाकक्ष में सभी सेवा संगठनों की एक संयुक्त बैठक में लिया गया।

जानिये विभिन्‍न प्रकार के अवकाश व नियम

 

 

 

 

 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here